Pages

khud ko khojne ka safar

Thursday, December 23, 2010

मेरा घर मेरे लोग ...

आज कुछ लिखने का मन हुआ ,अभी कुछ दिनों से मै अपने दादाजी के घर गयी हुई थी जोकि पटना से कोई 20  किलोमीटर की दुरी पर है ,असल मे मेरे चाचाजी के बेटे की शादी थी ,मेरे पिताजी भेल भोपाल मे जॉब के चलते भोपाल मे ही बस गए थे ,हमारा वो पुस्तैनी घर से रिश्ता बस शादी या कोई दुर्घटना के समय पहुच जाना जितना ही रह गया था ...फिर मेरी शादी के बाद ये सिलसिला भी मेरे हाथ से चला गया था ,अब जब ये मौका मिला घर खानदान की आखरी शादी मे शामिल होने का तो मै खासी उत्साहित थी ट्रेन मे बैठे बैठे सारे पल बचपन के जो हमने वहां बिताये थे आँखों के सामने घुमने  लगे ,वहां कुछ दिन बिताने के बाद मेरा सारा उत्साह ठंडा पड चूका था ..फिर जो कविता निकली मन से वो आपसे शेयर कर रही हूँ .


    
   

बरसो बाद 
अपने घर लौटना हुआ         
अजीब सी ख़ुशी थी
पलके भीगी हुई थी                                                         
सबने गले लगाया 
कुछ उलाहना भी दिया 
फिर कुछ घंटो मे ही 
अनुमान हो गया 
जिस चीज़ की खोज 
मुझे यहाँ लायी थी 
वो लगाव  तो कहीं खो  गया 
उनके चेहरों  पर था एक डर 
अनजाना सा 
समझ पाई तब जाना 
उन्हें लगा था मै कहीं 
उस जायजाद की बात न करू 
जो मेरे पिता ने कभी मागी नहीं 
तब मुझे अहसास हुआ 
बचपन मै जो आंगन 
बहुत बड़ा हुआ करता था 
हम ढेर सारे भाई बहन 
को अपनी गोद मै लिए 
खिलखिलाता था 
आज अचानक मुझे 
छोटा छोटा क्यों लगा 
मन ही मन मै मुस्कुराई 
बहुत देर से ही सही  
मै ये गूढ़ रहस्य समझ  तो पाई 
घर बड़ा या छोटा नहीं होता 
उनमे रहने वाले 
उसे छोटा करते या विस्तार देते है 
प्यार ,यादे ,रिश्ते भी जायदाद है 
कभी कभी बड़े भी नही समझ पाते हैं 
मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
अपनी बचपन की सारी यादो को 
समेटकर  मै वापस चली आई 

65 comments:

  1. PARIWARIK LAMHE SHERE KARNE KE LIYE .....BAHUT BAHUT SHUKRIYA

    ReplyDelete
  2. शब्द जैसे ढ़ल गये हों खुद बखुद, इस तरह कविता रची है आपने।

    ReplyDelete
  3. thanks sanju....haan ye bhi pariwar hi hai isliye ni sankoch maine share kiya....

    ReplyDelete
  4. बरसो बाद
    अपने घर लौटना हुआ
    अजीब सी ख़ुशी थी
    ...........घर लोटने की ख़ुशी का अहसास ही अलग होता है

    ReplyDelete
  5. आदरणीय मंजुला जी,
    आपको भी "मेर्री क्रिसमस" की बहुत बहुत शुभकामनाये!

    ReplyDelete
  6. आदरणीय मंजुला जी,
    आपने तो मुझे भी अपने गाव की याद दिला दी आपका आभारी

    ReplyDelete
  7. आदरणीय मंजुला जी,
    आपने तो मुझे भी अपने गाव की याद दिला दी आपका आभार

    ReplyDelete
  8. घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है

    आज के पारिवारिक संबंधों पर बहुत सटीक और भावपूर्ण टिप्पणी..बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  9. घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है
    प्यार ,यादे ,रिश्ते भी जायदाद है
    कभी कभी बड़े भी नही समझ पाते हैं
    मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई

    बहुत सुन्दर और संवेदनात्मक अभिव्यक्ति है आपकी.

    ReplyDelete
  10. मंजुला जी ,

    जिंदगी का एक बहुत बड़ा सच उजागर किया है आपने अपनी रचना में। अनजाने भय से ग्रस्त होकर , आपसी प्यार भी खो देते हें लोग ।

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत भावनात्मक पंक्तियां

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. अनजाने भय अक्सर मनआंगन को छोटा कर देते है।
    उन्हें भयमुक्त किया होगा तो शायद रिश्तों में उष्मा और बढेगी।

    कुछ खोने के डर के कारण ही आदमी बहुत कुछ खो देता है।

    ReplyDelete
  14. घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है

    अच्छा ही हुआ आप उस सच को जान आई जो शायद वहाँ गये व रहे बगैर कभी समझ नहीं आ पाता.

    फाण्ट सुधार दिये हैं । अब देखकर बताईयेगा.

    ReplyDelete
  15. घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है
    प्यार ,यादे ,रिश्ते भी जायदाद है

    बहुत सटीक बात कही ...अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है

    सही कहा.. घर छोटे या बड़े नहीं होते रहने वाले उसे छोटा-बड़ा करते हैं...सच बयां करती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  17. bahut hi bhavpoorn kavita .bahut bahut shubhkamnayen .nootan varsh ki saprivar shubhkamnayen

    ReplyDelete
  18. मै ये गूढ़ रहस्य समझ तो पाई
    घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है
    xxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
    आदरणीय मंजुला जी,
    कितनी बेबाकी और सच्चाई से आपने हर एक शब्द को भाव के अनुकूल ढाला है ...जीवन की सच्चाई को सामने लाया है ..हर एक पंक्ति गहरा अर्थ संप्रेषित करती है, आपसी प्यार दौलत में कैसे दब जाता है, सटीक रचना ...आभार

    ReplyDelete
  19. आपके ब्लाग आकर मुझे तो खुश मिली है

    "मेर्री क्रिसमस" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  20. मंजुला जी,
    आपका पोस्ट दिल को स्पंदित कर गया। कुछ आपके जैसे विचार मेरे अंतर्मन को प्रभावित कर गए हैं। मेरा भी गांव विहार के बक्सर जिले में है। मैं भी इन समस्याओं से ग्रसित हूं। मेरा अगला संस्मरण अवश्य देखिएगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  21. मंजुला जी वापसी मुबारक हो। जहां रिश्ते तब्दील हो जाएं वहां से वापसी ही बेहतर होती है। रचना सुंदर रही।

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर .

    ReplyDelete
  23. मंजुला जी,
    आपकी कविता आज की सच्चाई है !
    आपकी कविता की ये पंक्तियाँ मन को छू गई !
    `मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई `
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  24. रोचक लेखन।खूबसूरत प्रस्तुति.रचना सुंदर रही।

    ReplyDelete
  25. nice post.

    ये कपड़े तंग सिलवाना तुझे ज़ेबा नहीं देता
    किसी के दिल को तड़पाना तुझे ज़ेबा नहीं देता

    गले में डाल दे बांहें मिला दे सांस से सांसें
    लबे मंज़िल से लौटाना तुझे ज़ेबा नहीं देता

    ReplyDelete
  26. nice post.

    ये कपड़े तंग सिलवाना तुझे ज़ेबा नहीं देता
    किसी के दिल को तड़पाना तुझे ज़ेबा नहीं देता

    गले में डाल दे बांहें मिला दे सांस से सांसें
    लबे मंज़िल से लौटाना तुझे ज़ेबा नहीं देता

    ReplyDelete
  27. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  28. हम ही समेटे रहे वो यादें
    ढूँढने निकले तो देखा
    सब खो गया है......... नम एहसासों को मैंने भी जीया है

    ReplyDelete
  29. मेरे हिस्से का सूरज ..
    vatvriksh ke liye apni is shirshakwali rachna bhejiye parichay, tasweer, blog link ke saath ...
    rasprabha@gmail.com per

    ReplyDelete
  30. प्यार ,यादे ,रिश्ते भी जायदाद है
    कभी कभी बड़े भी नही समझ पाते हैं
    मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई
    itni bhawpurn aur sachchi kavita hai ,aankhen bhar gayeen.

    ReplyDelete
  31. मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई
    मंजुला जी गहरे जज्बातों से भारी हुई सुंदर कविता .बहुत ही भावपूर्ण कविता.
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी
    रमिया काकी

    ReplyDelete
  32. मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई

    यही तो सबसे सच्ची खुशीहोती है और यही सबसे बडा हिस्सा मगर दुनिया ना जाने कैसे झूठे दंभ मे डूबी रहतीहै।

    ReplyDelete
  33. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए न अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया.... आपलोगों की एक से एक रचनाये पढ़कर बहुत कुछ सिखने की कोशिस कर रही हूँ ...
    ..

    ReplyDelete
  34. बहुत सुंदरता से भावों का निरूपण!

    ReplyDelete
  35. भावपूर्ण खू्बसू्रत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  36. देर से ही सही , यह गूढ़ रहस्य समझ पायी ...
    घर छोटा या बड़ा नहीं होता , उसमे रहने वाले इंसान इसे छोटा कर देते हैं ...
    अपनों के बेगानेपन से बड़ा कोई दुःख नहीं होता ...
    संवेदनशील अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  37. घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है

    bilkul sach kaha aapne!
    waise ye pariwarik parivesh sayad sabke saath aisa hi hai...koi nahi...manjula jee!!

    kavita bahut bhawpurn ban padi hai..

    ReplyDelete
  38. nav varsh ki subhkamnayen...
    aur ab barabar aaunga...

    ReplyDelete
  39. aap sabhi ka bahut bahut sukriya ...wada hai aur achha likhne ki kosis karugi......

    ReplyDelete
  40. स्त्री का बाहर-भीतर सब प्रेममय होता है। ज़मीन-जायदाद मर्दों की तिकड़म है।

    ReplyDelete
  41. NAYA SAAL 2011 CARD 4 U
    _________
    @(________(@
    @(________(@
    please open it

    @=======@
    /”**I**”/
    / “MISS” /
    / “*U.*” /
    @======@
    “LOVE”
    “*IS*”
    ”LIFE”
    @======@
    / “LIFE” /
    / “*IS*” /
    / “ROSE” /
    @======@
    “ROSE”
    “**IS**”
    “beautifl”
    @=======@
    /”beautifl”/
    / “**IS**”/
    / “*YOU*” /
    @======@

    Yad Rakhna mai ne sub se Pehle ap ko Naya Saal Card k sath Wish ki ha….
    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  42. भावाव्यक्ति का अनूठा अन्दाज ।
    बेहतरीन एवं प्रशंसनीय प्रस्तुति ।
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  43. आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  44. अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  45. 2011 का आगामी नूतन वर्ष आपके लिये शुभ और मंगलमय हो,
    हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  46. 2011 का आगामी नूतन वर्ष आपके लिये शुभ और मंगलमय हो,
    हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  47. आपको और आपके परिवार को मेरी और से नव वर्ष की बहुत शुभकामनाये ......

    ReplyDelete
  48. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    ........
    नव वर्ष 2011
    आपके एवं आपके परिवार के लिए
    सुख-समृद्धिकारी एवं
    मंगलकारी हो।
    ।।शुभकामनाएं।।

    ReplyDelete
  49. नूतन वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  50. नव वर्ष मंगलमय हो...हार्दिक शुभकामनाएं....
    कुछ नया पोस्ट करिए....नए साल में आपके ब्लाग में भी शामिल हो गई

    ReplyDelete
  51. thanks veenajee...aapko bhi nav varsh ki bahut subhkamnaye .........

    haan jarur kosish karti hoon jaldi post karu..

    ReplyDelete
  52. बचपन छोड़ कर जब इंसान बड़ा होता है तो ऐसी कई बातें सामने आती हैं .. ये जीवन का यथार्थ है ....
    आपको और परिवार में सभी को नव वर्ष मंगलमय हो ...

    ReplyDelete
  53. bahut hi marmik or sundar kavitaa likhane vale kaise choti choti baton me se bhi vishy khoj lete hain --na jane kaise pal me badal jate hain ye duniyaa ke badalate rishate hai naa --badhaai is post ke liye

    ReplyDelete
  54. आज के पारिवारिक संबंधों पर बहुत सटीक और भावपूर्ण अभिव्यक्ति| शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  55. "मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई"

    तन को बेधकर अंतर्मन में समाती और आज की सच्चाई को बयां करती - सच्ची, मर्मस्पर्शी एक उत्कृष्ट कृति - साधुवाद

    ReplyDelete
  56. आपकी नई रचना के इंतजार में...
    आप को वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  57. सच वो जान भी न पाए और आप बेशकीमती दौलत ले आयीं अपने साथ जो आपसे कभी कोई वापस नहीं ले सकता है

    ReplyDelete
  58. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  59. आदरणीया मंजुला जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    बरसों बाद
    अपने घर लौटना …
    अजीब सी ख़ुशी …
    पलके भीगी हुई …


    बचपन की यादें बहुत सुखद होती हैं …

    जिस चीज़ की खोज
    मुझे यहां लाई थी
    वो लगाव तो कहीं खो गया
    उनके चेहरों पर था एक डर
    अनजाना सा



    यह है युग परिवर्तन …
    घर घर का किस्सा है ,
    रिश्ते समाप्त हो रहे हैं ,
    परिवारों में विखंडन हो रहा है ,
    दूरियां बढ़ रही हैं …

    घर बड़ा या छोटा नहीं होता
    उनमे रहने वाले
    उसे छोटा करते या विस्तार देते है
    प्यार ,यादे ,रिश्ते भी जायदाद है
    कभी कभी बड़े भी नही समझ पाते हैं
    मै अपना हिस्सा अपने साथ ले आई....
    अपनी बचपन की सारी यादो को
    समेटकर मै वापस चली आई


    आप-हम जैसे भावुक हृदय लोगों के कारण फिर भी स्थिति का संतुलन कायम रहता है

    अच्छे भाव अच्छी कविता के लिए बधाई आभार !
    …लेकिन , अब नई पोस्ट भी तो लगाएं … :)

    ज़्यादा पुरानी बात नहीं हुई , चार दिन विलंब से ही सही …

    विश्व महिला दिवस की हार्दिक बधाई !
    शुभकामनाएं !!
    मंगलकामनाएं !!!

    ♥मां पत्नी बेटी बहन;देवियां हैं,चरणों पर शीश धरो!♥



    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  60. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप सभी को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete